Wednesday, October 16, 2013

यूं हसरतों के दाग मोहब्बत में धो लिए

खुद दिल से दिल  की बात कही  लिए !
RAJINDER KRISHAN -MADANMOHAN (ADALAT 1958)


No comments:

Post a Comment